Contact Information

Delhi

We Are Available 24/ 7. Call Now.

ये हैं लद्दाख के सोनम वांगचुक। जिन्होंने सबसे पहले ना सिर्फ बॉयकॉट चाईना अभियान की शुरुआत की, बल्कि उसको प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए अभी भी लगे हुए हैं। वांगचुक अपनी नई वीडियो के साथ सामने आए हैं। जिसमें वो चाईना के डी-एक्सीलेट होने, मतलब पीछे चले जाने के लिए भारत की जनता और भारत की सरकार को बधाई देते हैं।

अपने इस वीडियो में वांगचुक कहते हैं कि भारत की जनता ने बॉयकॉट चाईना अभियान को सीरियस लिया। यही कारण है कि भारत सरकार भी चीन के विरुद्ध सामने से कदम उठा पाई। वांगचुक ने कहा कि भारत के लोगों ने चीन के विरुद्ध जो वॉलेट वॉर की शुरुआत की है, वो सभी को आकर्षित कर रहा है। जिसकी वजह से अमेरिका भी चायनीज़ एप्प बैन करने जा रहा है। ऑस्ट्रेलिया भी इस विषय में सोच रहा है। कहने का मतलब ये है कि भारत की इस मुहिम का दुनियाभर के देश दोनों हाथों से स्वागत कर रहे हैं।

Corona से भी खतरनाक BMIC वायरस

इसके बाद वांगचुक किसी BMIC वायरस के बारे में बात करते हैं। सोनम वांगचुक कहते हैं कि ये बहुत खतरनाक वायरस है। ये कोरोना से भी 100 गुना खतरनाक है। वांगचुक बताते हैं कि एक वो वायरस है जो वुहान से निकला है। एक ये वायरस है जो लद्दाख से निकल रहा है।

वांगचुक बताते हैं कि ये बहुत ही खतरनाक वायरस है। फोन सुन लें तो हो जाता है। सोशल मीडिया पर भी हो जाता है। ये इतना खतरनाक है कि कोई भी इससे बचा नहीं है। इसके बाद सोनम वांगचुक इस वायरस के बारे में बताते है। ये BMIC वायरस है क्या और इससे किसको नुक्सान होगा।

वांगचुक बताते हैं ये BMIC वायरस का मतलब होता है “बॉयकॉट मेड इन चाईना” वायरस और ये जिस देश में होता है, उसका भला होता है। बाकी चाईना को इससे नुक्सान होता है। वांगचुक कहते हैं कि हमें इस वायरस को पूरी दुनिया में फैलाना होगा। हमें सबको ये बताना होगा कि इस वायरस से इफेक्ट होने के क्या फायदे हैं।

अपने वीडियो के आखिर में वांगचुक बताते हैं कि अभी हमें यहाँ रुकना नहीं है। इस वॉलेट-वॉर को तब तक जारी रखना है, जब तक चीन ना सिर्फ गलवान से बल्कि 1962 की LAC से भी पीछे ना हट जाए।

Share:

administrator

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *